Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Hindi poems

मैं एक महान बार्ड हूं | sunny k saini

 ये बन्द कमरो की वीरनीया मुझे अवाज देती है, कुछ लम्हे कुछ कहानिया मुझे ये राज देती है।। अगर मैं लिखना चाहु मेहबूब के बारे मे कुछ। ये मेरी कलम की नोक मुझे  लिहाज देती है।। आज के हालात या जुल्म की दास्ताँ लिखूं तो। मेरी सियाही मेरी कलम मुझे  आगाज देती है।। इश्क़ की कोई प्रेम गाथा अगर जहन मे आये। मेरे खयालो की झलक मुझे मिजाज देती है।। किसी कोयल  की अगर धुंन  पडे मेरे कानो मे। सूने अल्फाज़ो को ये कलम जैसे साज देती है।। मत पुछो मुझ से! की क्या दर्द होता है लिखने का। ये  रात चीख्ती खामोशि से मुझे अल्फाज देती है।। Insta @ writer.sunny.saini777 You may also like ; 1)  सैनिक का आखिरी खत by  priyanshu  2)  Inquilab by S.jatin

सैनिक का आखिरी खत | PRIYANSHU BHAI

  सैनिक का आखिरी खत मैं भारत का एक सिपाही हुँ,  दुश्मनो के लिए मै त्राहि हुँ , मगर चले कभी मेरी अंतीम सांस, टूट जाये जीने की आस , लपेट तिरंगे में मुझको  पहुँचा देना मेरे मां के पास ... मां अल्फाज मेरे मौन हो गये , पर संजोने वाली बात साथ लाया हुं , बहु ना लाया डोली में ,  पर देख पुरी बारात साथ लाया हुं।। बेटा है उनका सेना में इस बात पर रौब जमाते थे,  आज उनकी आँखों में आंसु  जो हर वक्त सिर्फ मुस्काते थे,  बाबू जी मैं मरा नही मैंने शहादत पाई है जा कहना सबसे गाँव में  मैंने सीने पे गोली खाई है ।। जा कहना छोटे भाई से  वादा मेरा निभायेगा  सिर्फ एक सीना लुप्त हुआ  दूजा बदला ले आयेगा ।। वही होगी मेरी छोटी बहना , जा उस से तुम प्यार से कहना,  तोहफा उसका याद था पर कुछ यू इत्तेफाक हो गया , मां की सेवा करने में भाई  राखी के पहले राख हो गया ।। थोड़ा रूक जाना उस दरवाजे पर,  कहना स्वागत करे डोल बाजे से,  संग जिंदगी बिताने का  हमने इरादा किया था,  साथ जीने मरने का  सच्चा वादा किया था,  दिल अभी भी जूड़े हुए हैं  जिस्मो का खेल छुट गया,  मां का वादा निभाने में  प्यार का वादा टूट गया ।। अब मैं इन भटकती राह

Inquilab | S.Jatin

मेरी नापसंद से इज़ाफ़त करने वाली वो,          झगड़े  के बीच  शरारत करने वाली  वो।।           मैं हूँ की फूलों से भी दूरियाँ रखने वाला,       और तितलियों से मुहोब्बत करने वाली वो।।